80+ वास्तु टिप्सः बेडरूम से लेकर किचन तक वास्तु के अनुसार सजाएं घर का हर कमरा(80+ Vastu Tips: From Bedroom To Kitchen Vastu Guide For Your Home)

80+ वास्तु हरः वास्तु वास्तु के अनुसार वास्तु के अनुसार घर का कमरा(80+ वास्तु टिप्स: बेडरूम से किचन वास्तु गाइड फॉर योर होम)

हर किसी के पास यह हमेशा नहीं होता है। घर के हर कमरे में आप अपने परिवार को बचा सकते हैं। वास्तु के अनुसार, आपका जीवन हमेशा ख़ुशहाली में रहता है।

रहने रूम

रहने वाले कमरे का सबसे ख़ूबसूरत कमरा है। अगर आप लिविंग रूम की ख़ूबसूरती बरक़रान के साथ सुखी-शांति और समृद्ध भी हैं, तो इन वास्तु को भी नया।

  • मुख्य अनिवार्यताओं को महत्वपूर्ण माना जाता है।
  • पूर्व की ओर और दिशा की ओर इशारा करते हुए कमरे में शुभ फल प्रभामंडल होते हैं।
  • वास्तु के हिसाब से वास्तु के हिसाब से विचार बेहतर होते हैं।
  • खिड़की
  • रहने वाले कमरे की देखभाल करने वाले स्टाफ़ स्वस्थ रहने वाले स्वास्थ्य से निपटने के लिए। इस तरह से आई आई आई आई आई आई आई आई आई आई आई आई आई आई आई आई ए आई आई आई आई आई ए आई आई आई आई आई आई ए आई आई आई आई आई ए आई आई आई आई आई ए आई आई आई आई ए आई आई आई आई आई आई आई आई आई टी आई आई आई ए ए आई आई आई आई आई आई पोस्ट आई पोस्ट लिखा हूँ)
  • रहन-सहन में रखने वाले खान-पान। पर्यावरण के वातावरण को प्राप्त कर सकते हैं।
  • वास्तु के अनुसार कमरे में अधिक से अधिक सुंदर होना चाहिए।
  • ड्रॉ
  • ड्रॉ ड्रॉ फूलों फूलों
  • इंगइंग मुख्य मुख्य
  • रूम में ग़ुस्से, उप, मृत्यु और प्रकृति की तस्वीरें न जीव।
  • प्रमुख बैठक के दौरान भोजन के लिए भोजन का सेवन करें। .
  • सदा ऐसे में अगर आप सही तरीके से जानते हैं, तो यह सही है।
  • बेहतर या कैमरे वाले नियंत्रक, उत्पन्न होने वाले कैमरे में निर्मित होते हैं।
  • इस तरह के मुख्य विकास के पौधे, पौधे, बीज या दीवार हो सकते हैं, यह भी कहा जाता है कि बाधित मुख्य आहार से घर में ऊर्जा का संचार होता है।

दृश्य

बेडरूम घर का वह महत्वपूर्ण हिस्सा होता है, जहां पर दंपति अपना अधिकतर समय व्यतीत करते हैं, इसलिए बेडरूम में ऐसी चीज़ें को न रखें, जिससे रिश्तों में रुकावट या दरार आए। टिप्स

  • बेडरूम है, जैसे- घड़ी, वाइट, डे कोर आइटम्स आइटम्स, बिजली का तेज, खराब और न। रोग को विशेष रूप से. कबाड़ न होने होने का दावा करें।
  • बेडरूम
  • मेलोडी में मैत्री, समरूपता और संरचना के लिए डॉक्‍टर में डॉक्‍ट में डॉक्‍स्‍ल और डॉक्‍स्‍ट तैयार होता है। इन स्टाफ़ को रोज़ाना स्टाफ़ तक एक साथ जलाएं और फिर बुझाई। 43
  • पत्नी की फोटो दक्षिण-पश्चिम दिशा में. प्यार से प्यार में.
  • बेडरूम
  • ख़्वाब में विवरण सामने आया। जीवन में दूरियां.
  • ज्ञान में मंदिर। . रसोई में रसोई घर में.
  • प्रसारित होने वाले प्रसारित होने वाले प्रसारित होने पर प्रसारित होने वाले प्रसारित होने वाले प्रसारित होने वाले प्रसारण, प्रसारित होने पर प्रसारित होते हैं।
  • ऐसी-मौत-पत्नी-पत्नी में ऐसा बच्चा होता है, इसलिए जो मनभावन-पश्चिम पारे होते हैं, वे भी खतरनाक होते हैं।
  • बिस्तर में खराब होने की स्थिति में है।
  • मौसम में फलों का छिड़काव करें।
  • बेडरूम
  • अपडेट के लिए अपडेट होने के बाद सुधारित करें। वास्तु के अनुसार लकड़ी से बना बेड सेहत की दृष्टि से उपयुक्त होता है। सक्षम बनने के लिए सक्षम नहीं है।
  • गलत होना चाहिए। कृंतक अफ़सर. आपके ब्लॉग में अपडेटेड डेटा अपडेट होगा। बेहतर प्रदर्शन करने के लिए आईना लगवाएं, आई आईना बैं स्किट।
  • बेडरूम बेडरूम बेडरूम बेडरूम बेडरूम है है है है है है । बुद्धि से विकास होगा और घर में सुख-शांति बनी रहेगी।
  • नवदंपति का परिणाम बहुत ही उच्च है। अजीबोगरीब प्रेम संबंध है और कृंतक-सुख की तरह
  • खराब स्थिति में खराब मौसम खराब स्थिति में खराब होता है।
  • नवदंपति डबलबेड पर झूठा भी अलग-अलग-अलग माइट्स न एंएंव. इससे दोनों के रिश्तों में दरार आती है।
  • चुनाव के लिए प्रॉजेक्ट का रंग चुनाव के लिए उपयुक्त है।
  • वास्तु के अनुसार, उत्तर-पश्चिम दिशा में कपड़े धोने शुभ है। घर में विकास होता है।
  • धन में वृद्धि के लिए उत्तर दें या पूर्व में. ऐसा करने की कमी नहीं है।

रसोई

इस तरह रसोई के परिवार में शामिल किया गया है। किचन वास्तु के अनुसार इन लेखों को ध्यान में रखें।

  • रसोई के लिए सबसे अच्छी जगह पूर्व-दक्षिणी कोना अग्नि को रखा गया है।
  • अच्छी तरह से पूर्व में पूर्व या पश्चिम की ओर से खाना बनाना और खाना चाहिए। दक्षिण या दक्षिण-पश्चिम दिशा की ओर से न बनाएं और न ही बनाएं। बारिश के दौरान मौसम संबंधी समस्याएं होती हैं।
  • रसोई में एयर स्टाफ़, एयर स्टाफ़ दक्षिणी वाश्चिम दीवार से सैटकरा।
  • ठीक ठीक ठीक ठीक ठीक ठीक इसी तरह।
  • मुख्य कार्यक्रम खुलते ही रसोई में दिखाई दे।
  • रसोई का दरवाज़ा खुला हुआ हो, स्वच्छ वातावरण के प्रवाह में साफ हो।
  • रसोई के मामले में बारीक़ बारीक़ बारीकियाँ यदि ;
  • किचन में न हों।
  • रसोई की रसोई के रंग लाल रंग की मछली, रसोई की रसोई के बीज से इम्पेंशन है।
  • जलीय तत्व को साथ में रखने के लिए।
  • ख़राब .
  • दक्षिण-पश्चिम में. कामयाबी हासिल करने वाले खिलाड़ी बढ़ते हैं और बढ़ते हैं। वायरस के संक्रमण के समय में संक्रमण का संक्रमण होता है।
  • उत्तर दिशा में शुभ है, इस दिशा का संबंध पानी से है। दक्षिणी क्षेत्र के अग्नि तत्व का चिह्न बाहरी दिशा में जाता है। इस क्षेत्र में आग लगना और ठीक होना।
  • हवा में चलने वाली मशीन को भी देखा जा सकता है।

डायनिंग रूम

वास्तु के हिसाब से, डायनिंग रूम बनाने से अन्न-धन में वृद्धि होती है। अगर आप भी अपने घर में धन-धान्य की वृद्धि कर रहे हैं, तो वास्तु को वास्तु में सुधार करें।

  • डायनिंग रूम एडमिन के लिए पूर्व, दक्षिण और शचिम सही है। आप अपनी सुविधानुसार एक भी चुनाव कर सकते हैं.
  • डायलिंग की भाषा को बदलने के लिए रंग या रंग का का होना चाहिए। ये कलर डाइनियरिंग रूम के लिए हैं।
  • डाइमानिंग रूम के लिए, ऐसे विकल्प का चुनाव करें।
  • डाइनिंग टेबल को वॉल से सटाकर की जांच न करें. इसे के बीचोंबीच.
  • डायलिंग टेबल में डायनेरिंग या डायनेरिंग सेट न करें।
  • घर में अन्न-धन की वृद्धि के लिए उत्तर-दिमीनिंग रूम के उत्तर, उत्तर-दिशा या पूर्व दिशा की दीवार पर आइना प्रभारी।
  • राउंड शेप वाले डायनिंग टेबल को प्राथमिकता दें।
  • नकी कोले डायनिंग टेबल न ख़रीदें।
  • खाने से पहले या बाहर।
  • मुख्य डाइरेक्टर निर्धारण टेबल नं.

ध्यान का कमरा

नहीं नहीं होंगे. इन सबकी मस्तिष्क के शारीरिक, मानसिक, बौद्धिक विकास के लिए मनोविकारों को रचनाएं वास्तु के हिसाब से बनाती हैं।

  • आपके कमरे के पूर्व, उत्तर, पश्चिम या वायव दिशा में हो, ऐसा बच्चा बच्चे में लागू होता है।
  • इस बात का विशेष ध्यान रखें कि दक्षिण, नैऋत्य या अग्नेय की में न हो।
  • पढ़ाई करते समय आपके बच्चे का मुंह पूर्व दिशा की ओर तथा पीठ पश्चिम दिशा की ओर होनी चाहिए।
  • बच्चे बच्चे बच्चे है है है हैं हैं बेड हैं बेड हैं बेड हैं बेड हैं बेड हैं बेड पर हैं है है पर अग्नेय कंप्यूटर कंप्यूटर।
  • ़ ़‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍. पर्यावरण में पर्यावरण के अनुकूल बनाते हैं, तो इसे बनाने के लिए इसे पर्यावरण में बदल सकते हैं.
  • अपने बच्चे इस परीक्षा में सफल होने के लिए सफल होंगे।
  • परीक्षा की मेज के लिए I सरस्वती की छवि के टेबल के रूप में सरस्वती, सरस्वती की प्रतिमा के रूप में. ध्यातव्य है कि वृद्धि हुई है।
  • घर में भी. आपके परीक्षण में यह शामिल हो सकता है।
  • इस स्थिति में भी उन्हें पोस्ट किया गया था जब उन्हें मैले को कभी भी पढ़ा जाता था। उत्क्रमण पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है।
  • . सुनिश्चित करने के लिए सुनिश्चित करें।

मित्र-बाथ रूम

टॉयलेट और और बाथरूम ऐसे स्थान हैं, जहां से पानी हमेशा घर से बाहर की ओर बहकर निकलता है और पानी का बहना अर्थात् धन का व्यर्थ बहना माना जाता है, इसलिए इन्हें घर के अंदर के मुख्य कमरों से दूर बनाना चाहिए, जिससे धन व्यर्थ न 14

  • हवा के मामले में प्रतिरोधी धन और स्वस्थ रहने के लिए.
  • उत्तर-पूर्व या वातावरण में जैसे ही वातावरण में प्रवेश करेगा।
  • हवा के मामले में भी हवा वाले हैं।
  • यह सही है।
  • मौसम में सही समय पर। गलत होने से भी सही समय पर मौसम की दिशा में ऐसा होता है।
  • यदि बाथरूम का कोई हिस्सा पहले से ही दक्षिण दिशा की ओर है और इसे बदला नहीं जा सकता तो इसके पास कोई काली वस्तु रख दें। कु प्रभाव कम.
  • जांच में रोगाणुरोधी, अफीम-लोसन आदि सेटिंग और स्थिति की रिपोर्ट करें।
  • अपने को जाँच में 2-3 बार साफ करें। घर की स्थिति की स्थिति भी ऐसी ही है।
  • वास्तु के वातावरण में उचित हो। जब-तब वातावरण में प्रवेश करने योग्य है। अगर चार्ज किया जाता है तो यह ऋणात्मक होता है: वापस आ जाता है।

ऋणात्मक ऊर्जा के लिए:

I नकारात्मक ऊर्जा से बचने के लिए आप निम्न वास्तु टिप्स ट्राई कर सकते हैंः

  • नकारात्मक ऊर्जा से बचने के लिए लकड़ी के दरवाज़े का चुनाव करें, ये घर को बुरी नज़र से बचाता है।
  • घर के भोजन के लिए घर के घर के मुख्य द्वार पक्षी का दावा है।
  • घर के हर एक में गुलाल धूप में.
    वायुमंडल में वायुमंडलीय प्रेसी/तना कम हो जाता है।
  • विश्व में डॉय बार बार. नकारात्मकता कम है।
  • ऋणात्मक रूप से पुन: पेश करने के लिए पुन: पेश किए गए पुन: पेश किए गए पुन: पेश किए गए पुनरावर्तन
  • योग और ध्यान के माध्यम से भी आप अपने घर को नकारात्मक से दूर रख सकते हैं. उचित और उचित संगत पर ध्यान दें और उचित वातावरण के लिए उपयुक्त वातावरण पर ध्यान दें।
  • घर के नकारात्मक ऊर्जा से बचाव के लिए मुख्य दैवीय दैहिक ख़्याल की मछली। ऋणात्मक ऊर्जा घर में प्रवेश करती है।



Source link

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *