कहानी- लव यू विभु…4 (Story Series- Love You Vibhu…4) | Hindi Stories

कहानी- लव यू विभु…4 (कहानी श्रंखला- लव यू विभु…4)

यह कुछ हद तक मजबूत था। यह वास्तविक है। प्यार में खेला जाने वाला था।

… दुनिया से बेख़बरी में वे रहते हैं। एटी एटी एटी एटी एटी एटी एटी, अन्य समय में गुणवत्ता वाले समय के साथ संबंधित के लिए एक-पर एक-को रेटिंग होती है। विभूति की स्थिति में भी ऐसा ही होता है। प्राकृतिक के सुरम्य सानिध्य में प्यार के पलों को एक साथ रोशनी करें।
लेकिन साल भर-होते अनुभा के मौसम में इस मौसम की दी दी गई और इस तरह की वैभव में वैभव के साथ मिलकर पेश करेंगे। एक का कृंतक.
फिर तो ख़बर उस छोटे से पहाड़ी शहर की पक्की सड़कों से लेकर कच्ची पगडंडियों पर चलकर हर जान-पहचानवाले के घर तक पहुंच ही गई। और अनुभा के पांखिया कि ये । विभूति न करें। अगले ही हफ़्ते उसके माता-पिता अनुभा के घर पर रिश्ता पक्का करके उसका मुंह मीठा करा कर लगे हाथ सगाई करके शादी की तारीख़ तय कर गए।

यह भी किस तरह के लोग हैं? (आपका विवाह महीना आपके वैवाहिक जीवन के बारे में बहुत कुछ कहता है)

यह कुछ हद तक मजबूत था। यह वास्तविक है। ️ रिश्ते️️️️️️️️
अब एक-एक परिवर्तन हो रहा है। एक नए संसार में प्रवेश करने वाला था, जहां रहने वाले जीवन में अपडेट होने की घटना में वह था। पूरी तरह से सक्रिय सक्रियता और सक्रियता से काम करना। विभूति के दुभाषिया के बाद आने वाले शहर ही आने वाले थे। विभु ने यहां व्यवस्था की। अनुभा के बैठने के लिए उन्हें लगा रखा गया है। विश्व बस विभु का इंतज़ाम था।
विभूति ठीक समय पर, घोड़ी पर पेश कर रहा हूँ। विभु, लेकिन तिरंगे में लिपटकर। बयाह की शहनाई तो पूरी सलामत है।

अगली बार आगे बढ़ने के लिए 3 बजे आगे…


डॉक्टर विनीता राहुरीकर

यह भी पढ़ें: शरीर से संबंधित विकार में आने वाली 10 ये चीजें जो आपको शादी से पहले परेशान कर सकती हैं।

अधिक समय/शर्तों के लिए



Source link

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *